नींद आने के उपाय और इससे जुड़ी कुछ विशेष जानकारियां

नींद आने के उपाय तथा इससे जुड़ी कुछ विशेष जानकारियां

दोस्तों आज हम आपको नींद के बारे में कुछ विशेष जानकारियां देने वाले हैं और इसके साथ आपको नींद न आने पर होने वाले बिमारियों को भी बताएंगे इसलिए आपसे प्रार्थना है कि आप पोस्ट पर बने रहिएगा और अपने ज्ञान को बढाये। चलिए आपका अधिक समय न लेते हुए लेख को शुरू करते हैं।साथ ही नींद आने के उपाय के बारे में बताएंगे।

हमें नींद कैसे आती है?

दोस्तों शायद आपको नहीं पता होगा कि हमें नींद कैसे आती है आप तो इतना ही जानते होंगे कि रात को सोते है लेकिन आपने कभी ये जानने की कोशिश किया कि हमें रात में ही नींद क्यों आती है अगर नहीं जानने की कोशिश की तो कोई बात नहीं आज हम आपको नींद क्यों आती है इसको बताएंगे। जैसा कि आपको पता ही है हमारे मस्तिष्क में एक बहुत ही जटिल क्षेत्र है जिसे निद्रा केंद्र कहते हैं रक्त में घुला हुआ कैल्सियम इस निद्रा केंद्र नियंत्रित करता है जब कैल्सियम की एक निश्चित मात्रा रक्त द्वारा निद्रा केंद्र में पहुंचा दिया जाता है तो हमें नींद आ जाती है अब आपको पता चल गया होगा कि हमें नींद क्यों और कैसे आती है अब आगे आपको और भी बिशेष जानकारी देंगे।

इसे भी पढ़ें- आंखों से जुड़ी कुछ विशेष जानकारियां

कुछ लोग नींद में क्यों चलते हैं?

आपके आसपास किसी सदस्य के साथ ऐसा होता होगा। अगर होता है तो इस पोस्ट से कहीं मत जाइएगा क्योंकि आपको इसमें हम नींद में चलने के कारण के बारे कुछ विशेष जानकारी देने वाले हैं चलिए देखिए शुरू करते हैं आपको ऊपर ये बात बताई है हमने कि हमारे मस्तिष्क में एक नींद केन्द्र है सारे दिन के काम करने के परिणाम स्वरूप हमारे शरीर में लैक्टिक एसिड और कैल्शियम बनता ।

है जब कैल्सियम नींद केन्द्र में प्रवेश करता है तब यह क्रिया शील हो जाता है और हमारे शरीर को नींद के अवस्था में ले जाता है नींद के अवस्था में हमारे शरीर का सम्बन्ध शरीर के अंगों से कट जाता है और नाड़ियों का सम्बन्ध मस्तिष्क से कट जाता है लेकिन कुछ लोगों में नींद के अवस्था में भी शरीर जाग्रत होता है यह नारियों में कुछ असमानता होने के कारण होता है इसी कारण कुछ लोग नींद में चलने लगते हैं हम आशा करते हैं कि आपको पता चल गया होगा कि कुछ लोग नींद में क्यों चलते हैं।

कुछ लोग नींद में खर्राटे क्यों लेते हैं?

दोस्तों कुछ लोग नींद में खर्राटे क्यों लेते हैं ये बात आपको पता नहीं होगी और अगर पता भी होगी तो पूरी तरह नहीं इसलिए आज हम बताएंगे आपको लोगों के खर्राटों के कारण के बारे में इस लिए लेख को अंतिम तक पढ़ते रहे। ऐसा इसलिए होता है क्यों कि कुछ लोग नाक के जगह मुंह से सांस लेते हैं जब तक वे जाग्रत रहते हैं तब तक उनके मुंह के अन्दर गले की पास वाली जगह खिंची रहतीं हैं लेकिन सोते समय यह ढ़ीली पड़ जाती है मुंह से सांस लेने के परिणाम स्वरूप हवा के दबाव के कारण इसमें कम्पन होता है जिससे आवाज उत्पन्न होती है जो हमें सुनाई देती है और जो लोग नाक से सांस लेते हैं वह लोग नींद खर्राटे नहीं लेते हैं।

इसे भी पढ़ें- पानी से जुड़ी कुछ विशेष जानकारियां

नींद आने से पहले जम्हाई आने का कारण

यह नींद का संदेश देता है लेकिन कभी -कभी थकान से भी जम्हाई आती है चलिए बताते हैं जम्हाई आने के कारण के बारे में बहुत देर तक एक ही स्थिति में बैठे रहने से या अत्यधिक परिश्रम वाला कार्य करने पर थकान के कारण एक लम्बे समय के बाद हमारे शरीर में श्वसन की धीमी गति के कारण आक्सीजन की मात्रा में कमी आती जाती है आक्सीजन की इस कमी को पूरा करने के लिए ही हमें जम्हाई आती है।

जम्हाई आते समय हमारा मुंह अचानक खुल जाता है और एक लम्बी सांस अन्दर लेते हुए सांस बाहर को छोड़ते हैं इस क्रिया से आक्सीजन हम अपने शरीर में लें जाते हैं और कार्बन डाइऑक्साइड बाहर छोड़ते हैं। यह स्पष्ट है कि जम्हाई नींद और थकान का संकेत है बहुत समय बाद जम्हाई लेने पर फेफड़ों के फुसफुस कोष शुद्ध वायु से भर जाते हैं और रूधिर आक्सीजन युक्त हो जाता है जम्हाई आने पर उसे रोकना असम्भव है एक मजेदार बात तो यह है कि जम्हाई संक्रामक भी हों सकतीं हैं। यह एक आम अनुभव की बात है कि एक दूसरे को जम्हाई स्वयं आने लगती है लेकिन ऐसा क्यों होता है अभी भी वैज्ञानिक जान नहीं पाये है।

नींद आने के उपाय

अगर आपको नींद नहीं आती है तो इस लेख को केवल पूरा पढ़ लिजिए आपकी समस्या दूर हो जाएगी। और आपको अच्छी नींद की प्राप्ति होगी। अब हम आपको नींद आने के कुछ आसान चीजों को बताएंगे। अगर आप इन सारी बातों को ईमानदारी से पढ़ते हैं और करते हैं तो 100% गारंटी के साथ कह सकते हैं आपकी समस्या दूर हो जाएगी।

  1. ब्रहम मुहुर्त में उठना
  2. प्रात काल योगा करना
  3. अपने दैनिक कार्यक्रम को एक सही समय पर करना
  4. समय पर नाश्ता करना
  5. प्रति दिन ईश्वर का चिंतन करना
  6. हमेशा सकारात्मक सोच रखना
  7. हमेशा प्रसन्न रहना
  8. प्रति दिन अलग प्रकार की चीजों को खाना
  9. हमेशा शाकाहारी भोजन करें
  10. रात के समय हल्का भोजन करें
  11. रात को सोते समय दूध का सेवन करें

हमने आपको कुछ विशेष चीजों को बताया है जिसे आप कर सकते हैं अगर आप हमारे द्वारा बताए गए बातों करते हैं तो जरूर फायदा होगा।

क्या नींद के दवाओं का सेवन करना सही है

आपको नींद के दवाओं का सेवन नहीं करना चाहिए ये दवाएं आपको नींद नहीं मौत के रास्ते पर ले जाने का काम करती है अगर आपको बहुत जरूरी हो तो महिने में एक बार सेवन कर सकते हैं लेकिन इसे बार- बार सेवन करके अपने जीवन में संकट में डाल रहे हैं इसलिए डाक्टर भी नींद के दवाओं के सेवन करने को नहीं कहते हैं आपसे प्रार्थना है कि आप ऐसे किसी भी दवाओं का सेवन न करें। जिससे आपके जीवन के ऊपर कोई खतरा आये। इसीलिए हम आपको नींद आने के उपाय के बारे में बता रहे हैं।

नींद आने के उपाय

नींद न आने से होने वाले रोग

सोना शरीर के लिए बहुत जरूरी है अगर आपको नींद नहीं आती है तो यह बिमारी कैंसर से भी बड़ी है क्योंकि ये बिमारी आपको मौत के करीब ले जाती है और इस नींद की बीमारी से कई लोगों की मृत्यु भी हो जाती है यह बीमारी भयानक तब होती है जब हम दिन भर काम करते हैं और जब शरीर डिस्चार्ज हो जाता है तो उसे आराम की जरूरत होती है लेकिन हम उसे आराम नहीं दे पाते हैं इस कारण बीमारी बढ़ती जाती है। नींद ना आने से निम्नलिखित रोग होते हैं – ban hemorrhage, cancer ,madhumeh ,heart attack और भी कई और भी कई भयानक बीमारियां नींद ना आने से होती हैं इसलिए अगर आप हमारे द्वारा बताए गए जानकारी पूरी तरह से समझ कर इस पर सोचते हैं और हमारे द्वारा बताए गए नियमों को अपनाते हैं तो आपको इन सभी बीमारियों का सामना नहीं करना पड़ेगा।

आपने क्या सीखा

आज हमने आपको नींद के बारे सभी प्रकार की जानकारी दे दी है हमको ऐसा महसूस हो रहा है कि आपको नींद आने के उपाय और सभी बातों को आप समझ गए होंगे अगर समझ गये है तो पोस्ट को लाइक और शेयर करना मत भूलना। जिससे आपको हमेशा हमारी पोस्ट की नई अपडेट मिलती रहे।
हम आशा करते हैं आप हमारे द्वारा दी गई जानकारी से संतुष्ट हो गये होंगे अगर हो गये है तो कमेंट बॉक्स जरुर बताएं चलिए अब चलते हैं मिलते हैं अगले पोस्ट में तब तक के लिए जय हिन्द जय मातरम्।

कोई सवाल या जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें